Wednesday, 26 July 2017

Zabt Kaha Rahta hai Insan me - Anuj Pareek



जुनून हो चाहे कितना भी इंसान में
लाख जतन पर भी ना मिले मंज़िल
तो ज़ब्त कहां रहता है इंसान में
                      - अनुज पारीक 

No comments:

Post a Comment