Sunday, 30 July 2017

Khalwat - Anuj Pareek


हर मर्ज़ को मुस्कुराकर छुपाता हूँ
अपनों की भीड़ में भी अक्सर खुद को ख़ल्वत में पाता हूँ 
अनुज पारीक 

No comments:

Post a Comment