Saturday, 24 June 2017

Sun Zara / सांसों की आहट तो सुन ज़रा - अनुज पारीक

उदासियां तू भी तो सुन ज़रा
बेवजह मत लगा खामोशियों का इल्ज़ाम मुझ पर
सांसों की आहट तो सुन ज़रा
Dhun Poetry
MyWORDIsMyWORLD
DhunZindagi

No comments:

Post a Comment