Saturday, 3 June 2017

Nazren / नज़रें - Anuj Pareek

                                                                अगर नज़रें रूकती है तो रुक जाने दो
                                                                   नज़रों का काम ही है नज़र करना
                                                                                    -अनुज पारीक 

No comments:

Post a Comment