Thursday, 6 April 2017

बातें Baaten

खूब मशरूफ रहा यादों को तेरी भुलाने को
बातें तो फिर भी तेरी याद आने लगी
अनुज पारीक
धुन ज़िन्दगी की

No comments:

Post a Comment