Friday, 31 March 2017

होता हूँ सेंटी - अनुज पारीक

हंसने को तो गम में भी हंस लेता हूँ ,
होता हूँ थोड़ा सेंटी तो कुछ लिख लेता हूँ ! 
अनुज पारीक
धुन ज़िन्दगी की 
धुन कविता की 


More Poetry 

No comments:

Post a Comment