Thursday, 23 February 2017

शब्दों को तश्वीर- अनुज पारीक


तू होती है साथ
तो जैसे मेरे शब्दों को तश्वीर मिल जाती है
मचलते हैं अल्फाज़ तो
शायरी बाहर आती है।।
                                                अनुज पारीक
                     धुन ज़िन्दगी की 
धुन कविता की
 कविता की धुन

1 comment: