Thursday, 8 September 2016

World Literacy Day_ Dhun Zindagi Ki by Anuj Pareek




आज हम 21 वी सदी मे जी रहे है ,सब कुछ तेज़ी से बदल रहा है 
तेज़ रफ़्तार , बड़ी-बड़ी मंज़िले .
Digital Learning पर क्या कभी आपने सोचा की एसे भी कई बच्चे है जिन्हे आज भी स्कूल के द्वार नसीब नही 
आज भी उनके लिए क से मतलब कचरा है 
ये बच्चे आपको आपके गली-मोहल्ले कॉलोनी मे कही कचरा बीनते मिल जाएँगे अगर सही मायने मे देश को साक्षर बनाना है तो ज़रूरत है सबसे पहले इन बच्चो को साक्षर करने की ! 
                                                                                                                


    

4 comments:

  1. vry nice so touching
    bilkul sahi kaha digitial learning ke daur me bhi kai baccho ko school ke dwar nasib nahi

    ReplyDelete
  2. Very nic
    Bilkul sahi likha hai & sacchai dikhayi hai

    ReplyDelete